स्वागत हे, रविवार, अगस्त 19, 2018

भाषायें

अस्वीकरण

यह वेबसाइट (बाह्य वेबसाइट जो नई विंडो के रूप में खुलती है) एनआईसी, भारत सरकार द्वारा हॉस्ट की गई है तथा इसका रखरखाव एसटीसी सूचना प्रौद्योगिकी प्रभाग द्वारा किया जाता है।

यद्यपि इस वेबसाइट की सामग्री सत्यता और अद्यतनता सुनिश्चित के लिए पूरे प्रयास किए गए हैं, परन्तु इसे कानूनी कथन के रूप में न लिया जाए अथवा किसी वैधानिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल न किया जाए। एनआईसी इसकी सामग्री की सत्यता, संपूर्णता, उपयोगिता के संबंध में अथवा अन्य किसी प्रकार से कोई जिम्मेदारी स्वीकार नहीं करता। प्रयोक्ताओं को सलाह दी जाती है कि किसी भी सूचना को संबंधित सरकारी विभागों और/अथवा अन्य स्रोतों से सत्यापन/जाँच कर लें और वेबसाइट पर उपलब्ध कराई गयी सूचना के विषय में कार्रवाई करने से पूर्व उचित व्यावसायिक सलाह प्राप्त कर लें।

किसी भी मामले में सरकार अथवा एनआईसी इस वेबसाइट के प्रयोग के संबंध में उत्पन्न होने वाली किसी सीमा, प्रत्यक्ष अथवा फलस्वरूप हानि या क्षति या कोई व्यय, इसके प्रयोग से उत्पन्न हानि अथवा क्षति अथवा डाटा के प्रयोग से हानि सहित किसी भी व्यय, हानि अथवा क्षति के लिए जिम्मेदार नहीं होगा।

इस वेबसाइट में शामिल अन्य वेबसाइट के साथ लिंक केवल सार्वजनिक सुविधा के लिए उपलब्ध कराए गए हैं। लिंक की हुई वेबसाइट की सामग्री अथवा विश्वसनीयता के लिए एनआईसी जिम्मेदार नहीं है और न इनमें प्रकट किए गए विचारों की कोई पुष्टि करता है। हम ऐसे लिंक किए गए पृष्ठों की हर समय उपलब्धता की कोई गारंटी नहीं दे सकते।

वेबसाइट पर उपलब्ध सामग्री मेल के जरिए हमसे अनुमति लेने के उपरांत मुफ्त रूप से पुन: तैयार की जा सकती है। तथापि, सामग्री यथार्थ रूप से पुन: तैयार की जानी चाहिए और न ही अनादरसूचक तरीके से अथवा भ्रमित करने वाले संदर्भों में इस्तेमाल किया जाना चाहिए। जहाँ कहीं भी सामग्री प्रकाशित की जा रही है अथवा दूसरों को जारी की जाती है तो स्रोत की पुख्ता रूप से पुष्टि की जाए। तथापि, सामग्री को पुन: तैयार करने की अनुमति किसी ऐसी अन्य सामग्री पर लागू नहीं होगी जो किसी तीसरे पक्ष के कॉपीराइट के रूप में पहचानी गयी है। ऐसी सामग्री को पुन: तैयार करने की अनुमति संबंधित विभाग/कॉपीराइट-धारकों से प्राप्त की जानी आवश्यक है।

ये निबंधन और शर्तें भारतीय कानूनों के अनुसार शासित होगी तथा मानी जाएंगी। इन निबंधनों और शर्तों के अंतर्गत उत्पन्न कोई विवाद भारत के न्यायालयों के स्पष्ट क्षेत्राधिकार के अधीन होगा।